• छलिया छैल छबीले की मुकुट छटा साजे टेढ़ी

    छलिया छैल छबीले की, मुकुट छटा साजे टेढ़ी, मन मोहनी मूरत मोरपंख छड़ी, सिर पर सोहे सुन्दर टेढ़ी। कारी कारी घूंघर वारी, लट लटक रही जुल्फें टेढ़ी, गल मणिमाल कानों कुंडल, कर कमलो में मुरली टेढ़ी। कदम की पेड़ की छाँव खड़े, कमर कमाल करके टेढ़ी, पीताम्बर फर फर फहराता, तो तिरछे चरणन ऐड़ी टेढ़ी। […]

  • प्रेरक प्रसंग गुरु शिष्य और पतंग

    *⚜️ आज का प्रेरक प्रसंग ⚜️* *!! सफल जीवन !!*~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ एक बार एक शिष्य ने अपने गुरू से पुछा- गुरुदेव ये सफल जीवन क्या होता है? गुरु शिष्य को पतंग उड़ाने ले गए, शिष्य गुरु को ध्यान से पतंग उड़ाते देख रहा था। थोड़ी देर बाद शिष्य बोला- गुरुदेव ये धागे की वजह से पतंग […]

  • गलत वक्त होता है

    इंसान कभी गलत नही होता उसका वक्त गलत होता है, मगर लोग इंसान को गलत कहते हैं जैसे पतंग कभी नही कटती, कटता तो सिर्फ “धागा” ही है फिर भी लोग कहते हैं “पतंग” कटी। ? सुप्रभात ?

  • कीमती हार और लड्डू गोपाल

    ये कथा घर मे सबको जरूर सुनाएं।?? कमल किशोर सोने और हीरे के जवाहरात बनाने और बेचने का काम करता था। उसकी दुकान से बने हुए गहने दूर-दूर तक मशहूर थे। लोग दूसरे शहर से भी कमल किशोर की दुकान से गहने लेने और बनवाने आते थे। चाहे हाथों के कंगन हो, चाहे गले का […]

  • भगवान् का अड्रेस

    (((( भगवान् का अड्रेस )))).रात के ढाई बजे थे, एक सेठ को नींद नहीं आ रही थी, वह घर में चक्कर पर चक्कर लगाये जा रहा था।.पर चैन नहीं पड़ रहा था। आखिर थक कर नीचे उतर आया और कार निकाली.. शहर की सड़कों पर निकल गया।.रास्ते में एक मंदिर देखा.. सोचा थोड़ी देर इस […]

  • प्रेरक प्रसंग विचारों की शक्ति

    *आज का प्रेरक प्रसंग* !! *विचारों की शक्ति* !!——————————————– आज हम पढ़ेंगे प्रेरक लघु कहानी के बारे जो दो छोटे भाइयों के बारे है | एक का नाम था हंसराज और दूसरे का नाम था अंशराज | एक दिन हंसराज निराश था । वह मन ही मन में कुछ गुस्से से बड़बड़ा रहा था ! […]

  • व्यापार या दया – Prerak Prasang

    Kahani ❤️व्यापार या दया❤️ हमेशा की तरह दोपहर को सब्जीवाली दरवाजे पर आई और चिल्लाई, चाची, “आपको सब्जियां लेनी हैं?” माँ हमेशा की तरह अंदर से चिल्लाई, “सब्जियों में क्या-क्या है?” सब्जीवाली :- ग्वार, पालक, भिन्डी, आलू , टमाटर…. दरवाजे पर आकर माँ ने सब्जी के सिर पर भार देखा और पूछा, “पालक कैसे दिया?” […]

  • दर्पण जब चेहरे का दाग दिखाता

    ? आज का मीठा मोती ? दर्पण जब चेहरे का दाग दिखाता, तब हम दर्पण नहीं तोडते, बल्की दाग साफ करते। उसी प्रकार हमारी कमी बताने वाले पर क्रोध करने के बजाय अपनी कमी को दूर करना चाहिए न की कमी बताने वाले से रिश्ता तोडना चाहिए। ? गुड मॉर्निंग इंडिया ? ? suprabhat ?

  • जीवन बदलने वाली कहानी

    ??जीवन बदलने वाली कहानी?? पिता और पुत्र साथ-साथ टहलने निकले,वे दूर खेतों ??की तरफ निकल आये, तभी पुत्र ? ने देखा कि रास्ते में, पुराने हो चुके एक जोड़ी जूते ???उतरे पड़े हैं, जो …संभवतः पास के खेत में काम कर रहे गरीब मजदूर ?‍♀ के थे. पुत्र को मजाक ?सूझा. उसने पिता से कहा […]

  • कुछ मीठा हो जाए

    बूंदीखीरबर्फीघेवरचूरमारबड़ीरेबड़ीफीणीजलेबीआम रसकलाकंदरसगुल्लारसमलाईनानखटाईमावा बर्फीपूरण पोलीमगज पाकमोहन भोगमोहन थालखजूर पाकमीठी लस्सीगोल पापड़ीबेसन लड्डूशक्कर पारामक्खन बड़ाकाजू कतलीसोहन हलवादूध का शर्बतगुलाब जामुनगोंद के लडडूनारियल बर्फीतिलगुड़ लडडूआगरा का पेठागाजर का हलवा50 तरह के पेडे50 तरह की गज़क20 तरह का हलवा20 तरह के श्रीखंड इससे भी अधिक मिठाई बनाने वाले देश में ‘कुछ मीठा हो जाये’ —के नाम पर केवल “चाॅकलेट”…!! […]

Got any book recommendations?