Home शुभ संध्या / शुभ रात्री दुःख में स्वयं की एक अंगुली

दुःख में स्वयं की एक अंगुली

41
0
shubh sandhya bhakti status

दुःख में स्वयं की एक अंगुली
आंसू पोंछती है ;
और सुख में दसो अंगुलियाँ
ताली बजाती है ;
जब स्वयं का शरीर ही ऐसा
करता है तो
दुनिया से क्या गिला-शिकवा
करना…!!
अतः
हँसते रहिये, हँसाते रहिये
और
सबका भला करते रहिये..!!

सुप्रभातम
🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here