Home प्रेरक प्रसंग प्रेरक प्रसंग विचारों की शक्ति

प्रेरक प्रसंग विचारों की शक्ति

214
0
prerak prasang

*आज का प्रेरक प्रसंग*

!! *विचारों की शक्ति* !!
——————————————–


आज हम पढ़ेंगे प्रेरक लघु कहानी के बारे जो दो छोटे भाइयों के बारे है | एक का नाम था हंसराज और दूसरे का नाम था अंशराज |

एक दिन हंसराज निराश था । वह मन ही मन में कुछ गुस्से से बड़बड़ा रहा था ! और दूसरी तरफ अंशराज भी बैठा हुआ था, वह बहुत खुश नजर आ रहा था। जब उनके मित्रों ने दोनों को देखकर कहा कि, हंसराज इतना दुखी क्यों है ?और अंशराज आप इतने खुश क्यों हो ?

हंसराज ने कहा कि देखो ना ‌पापा ने मुझे सिर्फ 5 रुपिये ही दिए हैं, मुझे ऐसा लगा था कि पापा कम से कम मुझे 10 रुपिये देंगे | यही सवाल अंशराज को पूछा क्या आप इतने खुश क्यों हो तो अंशराज ने कहा कि मुझे लगा पापा सिर्फ मुझे 2 रुपिये देंगे | उन्होंने मुझे 5 रुपिये दिया इसलिए मैं बहुत खुश हूं !


*निष्कर्ष :-*

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि सुख और दुख इंसानों के विचारों पर निर्भर है । आज इंसान हालातों से दुखी नहीं है उनके विचारों से दुखी है ! अगर आप भी हंसराज की तरह खुश रहना चाहते हो तो पॉजिटिव विचार को जीवन में अपनाओ जिससे आप अपने जीवन में खुश रह सको ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here