Home सुप्रभात स्टेटस सुप्रभातम् श्रीमद् भगवद्गीता श्लोक

सुप्रभातम् श्रीमद् भगवद्गीता श्लोक

367
0
suprabhat bhakti status

🌹🌹श्रीमद् भगवद्गीता श्लोक🌹🌹
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
दुःखेष्वनुद्विग्नमनाः सुखेषु विगतस्पृहः ।
वीतरागभयक्रोधः स्थितधीर्मुनिरुच्यते ॥
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
भावार्थ : दुःखों की प्राप्ति होने पर जिसके मन में उद्वेग नहीं होता, सुखों की प्राप्ति में सर्वथा निःस्पृह है तथा जिसके राग, भय और क्रोध नष्ट हो गए हैं, ऐसा मुनि स्थिरबुद्धि कहा जाता है॥
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
आपका आज का दिन मंगलमय रहे।
🙏🌹🚩सुप्रभातम् 🚩🌹🙏

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here